6 August 2016

टूट कें काँच की रकाबी से - नवीन

टूट कें काँच की रकाबी से
हम बिखर ही गए सराबी से
नेह के बिन सनेह की बतियाँ
ये दरस तौ हैं बस नवाबी से
हक्क तजबे कों नेंकु राजी नाँय
गम के तेवर हैं इनकिलाबी से
बैद, कोऊ तौ औसधी बतलाउ
घाव, गहराए हैं खराबी से
राख हियरे में खाक अँखियन में
अब कपोल’उ कहाँ गुलाबी से
प्रश्न बन कें उभर न पाये हम
बस्स, बन-बन, बने – जवाबी से
हमरे अँचरा में आए हैं इलजाम
बिन परिश्रम की कामयाबी से
ब्रज-गजल के प्रयास अपने लिएँ
सच कहें तौ हैं पेचताबी से
बस्स बदनौ* है, कच्छ करनों नाँय
हौ ‘नवीन’ आप हू किताबी से

नवीन सी चतुर्वेदी

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून
फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
2122 1212 22

ब्रज-गजल 





No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter