5 June 2013

दोहों के 23 प्रकार - नवीन

नमस्कार...... अगले आयोजन की घोषणा के पूर्व एक और पोस्ट डालना ज़रूरी लग रहा है। मेरा शुरू से यह मानना रहा है कि दोहे के प्रथम और तृतीय चरण में 212 पदभार तथा दूसरे और चौथे चरण के अंत में 21 पदभार अनिवार्य है। सम्भव है कभी कभार कहीं चूक भी हो गयी हो और अब तक इन्टरनेट पर कहीं पड़ी हुई हो, सो अब यहाँ से उसे अपडेट समझा जाय। तो बात है प्रथम और तृतीय चरण के अंत में 212 पदभार संयोजन की। पिछले आयोजनों में से किसी एक में बात यूँ उठ के आई कि दोहा कोई एक प्रकार का थोड़ा होता है, 23 प्रकार के होते हैं और सब में यह सम्भव नहीं हो सकता । दूसरे और चौथे चरण के अंत में 21 वाली बात पर भी विमर्श हुआ है। दोहों के वह 23 प्रकार जिन्हें कुछ नाम दिया जा चुका है [और जिन्हें मैं जानता हूँ :) ], पर मैं ने एक छोटा सा प्रयास किया है, अपनी मान्यता को वरीयता देते हुये; तथा यह प्रयास आप सभी विद्वत-समुदाय के समक्ष मूल्यांकन हेतु प्रस्तुत है। यदि इस प्रयास में कहीं भूल रह गई हों, तो उन के सुधार हेतु ध्यानाकर्षण करने की कृपा करें। 

दोहों के 23 प्रकार को ले कर जो एक बहुत ही बड़ा हौआ हमारे सामने अक्सर खड़ा होता रहा है, उस के भय को तनिक कम करने के उद्देश्य से मैंने तीन दोहों को एकाधिक बार किंचित बदल कर प्रस्तुत करने का प्रयास भी किया है। तो यह प्रयास पेश है आप सब की ख़िदमत में............

1
भ्रमर दोहा
22 गुरु और 4 लघु वर्ण
भूले भी भूलूँ नहीं, अम्मा की वो बात।
दीवाली देती हमें, मस्ती की सौगात।।
22 2 22 12 22 2 2 21
222 22 12 22 2 221
2
सुभ्रमर दोहा
21 गुरु और 6 लघु वर्ण
रम्मा को सुधि आ गयी, अम्मा की वो बात।
दीवाली देती हमें, मस्ती की सौगात।।
22 2 11 2 12 22 2 2 21
222 22 12 22 2 221
3
शरभ दोहा
20 गुरु और 8 लघु वर्ण
रम्मा को सुधि आ गयी, अम्मा की वो बात।
जी में हो आनन्द तो, दीवाली दिन-रात।।
22 2 11 2 12 22 2 2 21
2 2 2 221 2 222 11 21
4
श्येन दोहा
19 गुरु और 10 लघु वर्ण
रम्मा को सुधि आ गयी, अम्मा की वो बात।
जी में रहे उमंग तो, दीवाली दिन-रात।।
22 2 11 2 12 22 2 2 21
2 2 12 121 2 222 11 21
5
मण्डूक दोहा
18 गुरु और 12 लघु वर्ण
जिन के तलुवों ने कभी, छुई न गीली घास।
वो क्या समझेंगे भला, माटी की सौंधास।।
11 2 112 2 12 12 1 22 21
2 2 1122 12 22 2 221 
6
मर्कट दोहा
17 गुरु और 14 लघु वर्ण
बुधिया को सुधि आ गयी, अम्मा की वो बात।
दिल में रहे उमंग तो, दीवाली दिन-रात।।
112 2 11 2 12 22 2 2 21
11 2 12 121 2 222 11 21
7
करभ दोहा
16 गुरु और 16 लघु वर्ण
झरनों से जब जा मिला, शीतल मन्द समीर।
कहीं लुटाईं मस्तियाँ, कहीं बढ़ाईं पीर।।
112 2 11 2 12 211 21 121
12 122 212 12 122 21 
8
नर दोहा
15 गुरु और 18 लघु वर्ण
द्वै पस्से भर चून अरु, बस चुल्लू भर आब।
फिर भी आटा गुंथ गया!!!!! पूछे कौन हिसाब?????
2 22 11 21 11 11 22 11 21
11 2 22 11 12 22 21 121   
9
हंस दोहा
14 गुरु और 20 लघु वर्ण
अपनी मरज़ी से भला, कब होवे बरसात?
नाहक उस से बोल दी, अपने दिल की बात।।
112 112 2 12 11 22 1121
211 11 2 21 2 112 11 2 21
10
गयंद दोहा
13 गुरु और 22 लघु वर्ण
चायनीज़ बनते नहीं, चायनीज़ जब खाएँ।
फिर इंगलिश के मोह में, क्यूँ फ़िरंग बन जाएँ।।
2121 112 12 2121 11 21
11 1111 2 21 2 2 121 11 21 
11
पयोधर दोहा
12 गुरु और 24 लघु वर्ण
हर दम ही चिपके रहो, लेपटोप के संग।
फिर ना कहना जब सजन, दिल पे चलें भुजंग।।
11 11 2 112 12 2121 2 21
11 2 112 11 111 11 2 12 121 
12
बल दोहा
11 गुरु और 26 लघु वर्ण
सजल दृगों से कह रहा, विकल हृदय का ताप।
मैं जल-जल कर त्रस्त हूँ, बरस रहे हैं आप।।
111 12 2 11 12 111 111 2 21
2 11 11 11 21 2 111 12 2 21  
13
पान दोहा
10 गुरु और 28 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अपरम्पार
शुचिकर सरस सुहावना दीपों का त्यौहार
11 211 1111 111 1111 11221
1111 111 1212 22 2 221
14
त्रिकल दोहा
9 गुरु और 30 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अपरम्पार
शुचिकर सरस सुहावना दीपावलि त्यौहार
11 211 1111 111 1111 11221
1111 111 1212 2211 221
15
कच्छप कोहा
8 गुरु और 32 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अपरम्पार
शुचिकर सरस सुहावना दीप अवलि त्यौहार
11 211 1111 111 1111 11221
1111 111 1212 21 111 221
16
मच्छ दोहा
7 गुरु और 34 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अपरम्पार
शुचिकर सुख वर्धक सरस, दीप अवलि त्यौहार
11 211 1111 111 1111 11221
1111 11211 111 21 111 221
17
शार्दूल दोहा
6 गुरु र 36 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अपरम्पार
शुचिकर सुखद सुफल सरस दीप अवलि त्यौहार
11 211 1111 111 1111 11221
1111 111 111 111 21 111 221
18
अहिवर दोहा
5 गुरु और 38 लघु वर्ण
अति उत्तम अनुपम अमित अविचल अगम अपार
शुचिकर सुखद सुफल सरस दीप अवलि त्यौहार
11 211 1111 111 1111 111 121
1111 111 111 111 21 111 221
19
व्याल दोहा
4 गुरु और 40 लघु वर्ण
अचल, अटल, अनुपम, अमित, अजगुत, अगम, अपार
शुचिकर सुखद सुफल सरस दीप अवलि त्यौहार
111 111 1111 111 1111 111 121
1111 111 111 111 21 111 221
20
विडाल दोहा
3 गुरु और 42 लघु वर्ण
अचल, अटल, अनुपम, अमित, अजगुत, अगम, अपार
शुचिकर सुखद सुफल सरस दियनि-अवलि त्यौहार
111 111 1111 111 1111 111 121
1111 111 111 111 111 111 221
21
उदर दोहा
1 गुरु और 46 लघु वर्ण
डग मग महिं डगमग करत, मन बिसरत निज करम
तन तरसत, झुरसत हृदय, यही बिरह कर मरम
11 11 11 1111 111 11 1111 11 111
11 1111 1111 111 12 111 11 111
पहले और तीसरे चरण के अंत में 212 प्रावधान का सम्मान रखा गया है तथा दूसरे और चौथे चरण के अंत में 21 पदभार वाले शब्दों के अपभ्रश स्वरूप को लिया गया है  
22
श्वान दोहा
2 गुरु और 44 लघु वर्ण
डग मग महिं डगमग करत, परत चुनर पर दाग
तबहि सुं प्रति पल छिन मनुज, सहत रहत विरहाग
11 11 11 1111 111 111 111 11 21
111 1 11 11 11 111 111 111 1121 
23
सर्प दोहा
सिर्फ़ 48 लघु वर्ण
डग मग महिं डगमग करत, मन बिसरत निज करम
तन तरसत, झुरसत हृदय, इतिक बिरह कर मरम
11 11 11 1111 111 11 1111 11 111
11 1111 1111 111 111 111 11 111
पहले और तीसरे चरण के अंत में 212 प्रावधान का सम्मान रखा गया है तथा दूसरे और चौथे चरण के अंत में 21 पदभार वाले शब्दों के अपभ्रश स्वरूप को लिया गया है

 
आप के विचारों की प्रतीक्षा रहेगी। अगली पोस्ट में आयोजन के बारे में विचार-विमर्श करते हैं। 

विशेष:-

कल एक घटना ने हृदय आल्हादित कर दिया, वह ख़ुशी आप सभी के साथ भी साझा करने का दिल हो रहा है। कल कलर्स चेनल पर बालिका वधू सीरियल में चाइनीज मसाला मेगी के एक विज्ञापन में एक डायलाग सुना "चाइनीज खाना खाने के लिए चाइनीज बनना ज़रूरी नहीं"। इस पोस्ट में जो चाइनीज वाला दोहा है उसे इसी ब्लॉग पर नवंबर 2011 में पोस्ट किया गया था,आप सभी की टिप्पणियाँ भी हैं उस पर। मुझे नहीं पता विज्ञापन कब बना और यह डायलाग कब से किस के नाम के साथ रजिस्टर्ड है, पर हाँ मन ख़ुश हुआ अपना तो......... :)

11 comments:

  1. शानदार पोस्ट। सभी प्रकार के दोहे बिल्कुल स्पष्ट हो गये। भविष्य एक लिए संदर्भ का काम भी करेगी ये पोस्ट। धन्यवाद एवं बधाई।

    ReplyDelete
  2. और अगली समस्यापूर्ति के लिए क्यों न हर प्रकार का एक एक दोहा ले लिया जाय। अनिवार्यता न रहे जो जितने प्रकार के दोहे लिख सके लिखे। कम से कम ग्याहर दोहे (हम जैसों के लिए) अधिकतम एक सौ ग्यारह दोहे (आचार्य जी के लिए)।

    ReplyDelete
  3. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  4. इतने प्रकार के दोहे, हम तो अभिभूत हैं, क्योंकि हर एक प्रकार के उदाहरण भी हैं।

    ReplyDelete


  5. लिखत चलहु मन कहन बहि,
    बनहि दोहरा श्याम |
    मन हरसत तन सुख लहहि ,
    सुनि दोहरा ललाम|

    ReplyDelete
  6. सज्जन जी
    आपका आमंत्रण स्वीकार कर दिव्यनर्मदा सभी प्रकार ११ दोहे प्रस्तुत करता हूँ.

    ReplyDelete
  7. दोहरा ..दोहे का ही नाम कहते हैं ..वैसे दोहरा दोहे की एक एनी कोटि भी है
    दोहरा= विषम चरण १२-१२ सम चरण ११-११ ..
    ' सुर समूह विनती करी, पहुंचे निज निज धाम |
    जग निवास प्रभु प्रकटे, अखिल लोक विश्राम |'
    ---तुलसी दास ..
    इसी प्रकार दोहे का एक अन्य कोटि...दोही होती है..
    दोही= विषम चरण १५-१५ ...सम चरण ११-११...यथा..
    'प्रिय पतिया लिख-लिख थक चुकी, मिला न उत्तर कोय|
    सखि!सोचो अब में क्या करूँ,
    सूझे राह न कोय |'

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग के सीनियर शुभ-चिंतकों ने सुझाव दिया है कि बे-सिरपैर टाइप कमेण्ट्स को इग्नोर करना है.....

    ReplyDelete
  9. एक गयंद दोहा....

    बस घिसी-पिटी लीक पर, चलते रहेंगे हम |
    रहेंगे वहीं के वहीं, कब हम किसी से कम |

    ReplyDelete
  10. ----यानी वाद-विवाद से बचना है...
    हमारी बात ही है, सत्य अंतिम,
    न कह तू बात अपनी,कथ्य अंतिम |

    ReplyDelete
  11. नवीन भाई, आने वाली पीढी आपको हिंदी साहित्य में आपके अभूतपूर्व योगदान के लिए याद रखेगी.

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।