6 August 2016

सारा जीवन दे कर कुछ एक लम्हे माँगे थे - नवीन

सारा जीवन दे कर कुछ एक लम्हे माँगे थे
दुनिया तुझ से हम ने कौन ख़ज़ाने माँगे थे
थके-बदन की आह कहाँ सुनती है ये दुनिया
इसीलिये तलुवों ने कुछ अङ्गारे माँगे थे
एक और गहरी नींद हमारा मरकज़ थी ही नहीं
नींद उचट पाये इस ख़ातिर सपने माँगे थे
सच तो ये है हम ही थाम सके न पुराने पेड़
आँधी ने तो पेड़ नहीं बस पत्ते माँगे थे
हैवानो कुछ रह्म करो खुल कर जीने दो हमें
भूल गये क्या क्यूँ चेहरों ने परदे माँगे थे
ऐसा लगा जैसे गोदी में बैठ गया वो ख़ुद
किसन-कन्हैया से जब हम ने बच्चे माँगे थे
रद्दी जैसा ही कुछ-कुछ दे पाया ‘नवीन’ हमें
हमने जब उस से उस के मज़मूये माँगे थे
नवीन सी चतुर्वेदी

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।