30 November 2014

नज़्म - ऐ शरीफ़ इन्सानो - साहिर लुधियानवी

नज़्म  -  ऐ शरीफ़ इन्सानो  -  साहिर लुधियानवी


खून अपना हो या पराया हो
नस्ल-ए-आदम का ख़ून है आख़िर,
जंग मशरिक़ में हो या मग़रिब में,
अमन-ए-आलम का ख़ून है आख़िर !

बम घरों पर गिरे कि सरहद पर ,
रूह-ए-तामीर जख्म खाती है !
खेत अपने जले कि औरों के ,
ज़ीस्त फ़ाकों से तिलमिलाती है !

टैंक आगे बढे कि पीछे हटे,
कोख धरती की बांझ होती है !
फ़तह का जश्न हो कि हार का सोग,
ज़िंदगी मय्यतों पे रोंती है !

जंग तो खुद ही एक मसलआ है
जंग क्या मसलों का हल देगी ?
आग और ख़ून आज बख्शेगी
भूख और एहतयाज कल देगी !

इसलिए ऐ शरीफ़ इंसानों ,
जंग टलती रहे तो बेहतर है !
आप और हम सभी के आंगन में,

शमा जलती रहे तो बेहतर है

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter