30 November 2014

ग़ज़ल - सागर त्रिपाठी

हर शय पे ये दिल आता यूँ हर दिन भी नहीं है
इस दौर में अब इश्क़ तो मुमकिन भी नहीं है

कहने को ज़माने का ज़माना मेरा अपना
और उस पे सितम है कोई मोहसिन भी नहीं है

क्यों ख़ुद से ज़ियादा मुझे उस पर है भरोसा
जो शख़्स मेरे शह्र का साकिन भी नहीं है

जीने की हवस ने मुझे छोड़ा है जहाँ पर
डँसने के लिये उम्र की नागिन भी नहीं है

पढ़ ही न सके चेहरा-ए-हस्ती की इबारत
अब मेरी नज़र इतनी तो कमसिन भी नहीं है

महफ़ूज़ मेरे ज़ह्न में सदियों के हैं ख़ाके
हालाँकि मेरे कब्ज़े में एक छिन भी नहीं है

इस वासते मुंसिफ़ ने मेरी क़ैद बढ़ा दी
बेज़ुर्म भी हूँ और कोई जामिन भी नहीं है

सागर त्रिपाठी
+91 9920052915

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।