30 November 2014

आँधियाँ चल रही हैं लहरा कर - उर्मिला माधव

उर्मिला माधव

आँधियाँ चल रही हैं लहरा कर
मैं भी रख आऊं इक दिया जा कर

हर तरफ रौशनी का आलम है,
तीरगी क्या रहेगी अब आ कर,

इन चरागों में कुछ न कुछ तो है,
लौट जाती है अब हवा आकर,

अब वहां जाने का ख्याल न कर,
दिल जहाँ टूटता है जा-जा कर,

मुझको कंदील सिर्फ़ काफ़ी है,
इसमें रुक जाये है हवा आकर

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter