30 November 2014

गीत - रजनी मोरवाल

जब से तुम परदेश बसे हो –

रजनी मोरवाल



जब से तुम परदेश बसे
स्वप्न सभी वीरान हो गये
जब से तुम परदेश बसे हो

परख लिया बैरी दुनिया को
दुःख में संगी कब कोई है
बरसों से बिरहा की बदली
सुधियों के आँगन रोई है,
रिश्ते भी अनजान हो गए
जब से तुम परदेश बसे हो

भीगा मन रो-रोकर बाँधे
पोर-पोर टूटन की डोरी,
सावन को दिखलाई है मैंने
तन की सब सीमाएँ कोरी,
संवेदन सुनसान हो गये
जब से तुम परदेश बसे हो

साँस-साँस पर नाम लिखा है
धड़कन भी नीलम हुई है,
सिहरन की बाँहें अलसाईं
देखो अब तो शाम हुई है,
दर्द स्वयं पहचान हो गये
जब से तुम परदेश बसे हो
रिश्तों की मधुशाला – रजनी मोरवाल


कैसे मन का दीप जलाऊँ
खुशियाँ पर जाले हैं,
रिश्तों के द्वारे पर कब से
पड़े हुए ताले हैं

सोने के पिंजरे में पालूँ
मोती रोज चुगाऊँ,
साँसों की वीणा में गाकर
प्यारा गीत सुनाऊँ

रिश्तों के पंछी ने आखिर
डेरे कब डाले हैं

कितना चाहूँ और सहेजूँ
सपनों‌ से नाजुक हैं,
जन्मों की चाहत से परखूँ
आँसू से भावुक हैं

रिश्तों के मधुशाला में तो
दृग- जल के प्याले हैं

पर्वत -सी ऊँचाई इनमें
नदियों से आकुलता,
झीलों- सी गहराई इनमें
सागर-सी व्याकुलता

रिश्तों की पीड़ाओं के पग
छाले ही छाले हैं


मो. 09824160612

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter