2 November 2013

थे अपने ही हिसार में - नवीन

थे अपने ही हिसार में
सो लुट गये बहार में

क्या आप भी ज़हीन थे
आ जाइये कतार में

नश्शा उतर गया तमाम
कुछ बात है उतार में

गर तुम नहीं तो ग़म मिला
इतने नहीं हैं मार में

लाखों में आप एक थे
अब भी हैं इक हज़ार में

ये दिन भी देख ही लिया
पानी नहीं कछार में

वादा ही मिल सका फ़क़त
वो भी हुजूर उधार में

सारा शरीर खुल गया
झरने की एक धार में

आवाज़ दीजिये किसे
इस रात के बुखार में

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे रजज मुसद्दस मखबून
मुस्तफ़इलुन मुफ़ाइलुन
2212 1212

2 comments:

  1. क्या आप भी ज़हीन थे
    आ जाइये कतार में

    नश्शा उतर गया तमाम
    कुछ बात है उतार में

    बहुत अच्छे अशआर हैं |

    ReplyDelete
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार १२ /११/१३ को चर्चामंच पर राजेशकुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter