1 February 2014

वर्ष 1 अङ्क 1 फरवरी, 2014

नमस्कार

इस मञ्च के सनेहियों ने समय-समय पर जो सुझाव दिये उन्हें शिरोधार्य करते हुये आज से हम मासिक प्रकाशन [अन्तर्जालीय] की तरफ़ क़दम बढ़ाने की सोच रहे हैं। यह पहला प्रयास है, आशा करते हैं कि आप को पसन्द आयेगा। चूँकि पहला अनुभव है सो ज़ाहिर है कि क़दम दर क़दम सीखना भी है। फुर्सत से पढ़ियेगा और उचित लगे तो संबन्धित पोस्ट पर अपनी राय भी दीजियेगा। 

व्यंग्य 



कहानी



कविता / नज़्म



छन्द



ग़ज़ल



इस अङ्क की सभी रचनाओं के अधिकार-दायित्व तत्संबंधित लेखाकाधीन हैं। अव्यावसायिक प्रयोग के लिये लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें तथा व्यावसायिक प्रयोग के लिये संबन्धित व्यक्ति / संस्था इत्यादि से लिखित अनुमति लेने की कृपा करें। 

यह प्रयास आप को कैसा लगा, अगले अङ्क के लिये आप के क्या सुझाव हैं; यह सब जानने की उत्सुकता बनी रहेगी। यदि आप को यह प्रयास पसन्द आता है तो इसे आगे बढ़ाया जायेगा। 

नमस्कार 

9 comments:

  1. यह प्रयास पसन्द है
    इसे आगे बढ़ाया जाये ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रयास...शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर! इस अंक में स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत बधाई नवीन जी ! हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  5. अच्छी शुरुआत है नवीन भई ... इसको स्थाई रूप दिया जा सकता है ...

    ReplyDelete
  6. इस सुन्दर व सराहनीय प्रयास हेतु आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं ढेरो शुभ कामनाएं आदरणीय ...

    ReplyDelete
  7. बहुत उम्दा प्रयास है......बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  8. बहुत ख़ूब नवीन जी
    और
    बहुत बहुत शुक्रिया भी ,मुझे तो मालूम ही नहीं था कि इस ग़ज़ल को आप चार चाँद लगाने जा रहे हैं
    :)

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter