1 June 2014

काम आना हो तभी काम नहीं आते हैं - नवीन

काम आना हो तभी काम नहीं आते हैं
धूप के पाँव दिसम्बर में उखड़ जाते हैं

धूल-मिट्टी की तरह हम भी कोई ख़ास नहीं
बस, हवा-पानी की सुहबत में सँवर जाते हैं

वो जो कुछ भी नहीं उस को तो लुटाते हैं सब
और जो सब-कुछ है, उसे बाँट नहीं पाते हैं

सारा दिन सुस्त पड़ी रहती है ग़म की हिरनी
शाम ढलते ही मगर पङ्ख निकल आते हैं

शह्र थोड़े ही बदलते हैं किसी का चेहरा
आदमी ख़ुद ही यहाँ आ के बदल जाते हैं


नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन
2122 1122 1122 22


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter