6 December 2013

दर्द के हाथों में परचम आ गया - नवीन

दर्द के हाथों में परचम आ गया
बात में लहजा मुलायम आ गया

क्या करिश्मे हो रहे हैं आज कल
आप को आवाज़ दी, ग़म आ गया

हम ने समझा प्यार बरसायेगा प्यार
अश्क़ बरसाने का मौसम आ गया

चार दिन तक ही रही दिल में बहार
फिर उजड़ जाने का मौसम आ गया

आज नज़राने की थी उस से उमीद
भर के वो आँखों में शबनम आ गया

चल, नई धुन छेड़ कर आलाप लें
ज़िन्दगी की ताल में सम आ गया

शाम को तो तैश मत खाएँ 'नवीन'
सूर्य भी पूरब से पच्छम आ गया

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

3 comments:

  1. बढ़िया,बेहतरीन गजल ...!
    ----------------------------------
    Recent post -: वोट से पहले .

    ReplyDelete
  2. आज नज़राने की थी उस से उमीद
    भर के वो आँखों में शबनम आ गया ...

    नवीन भई हर शेर लाजवाब नजराने की तरह है पढ़ने वालों के लिए ... कमाल की सादगी लिए उम्दा गज़ल ...

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter