18 October 2013

अपनी हद पर ही कमोबेश क़दम रखते हैं - नवीन

[नया काम]

अपनी हद पर ही कमोबेश क़दम रखते हैं
हम समन्दर हैं किनारों का भरम रखते हैं 

उन से किस तर्ह निभे आप ही कहिये साहब
वो तो जब देखो तराज़ू पे क़लम रखते हैं 

अब हमें तैश नहीं बल्कि तरस आता है
जब हथेली पे नज़रबाज़ रक़म रखते हैं 

ऐ अँधेरो तु्म्हें किस बात का डर है हम से 
हम तो सीने में जलन कम से भी कम रखते हैं 

दिल के गमले में सिसकते हुये जज़्बात नहीं 
ख़ुश्बु-ए-इश्क़ उड़ाते हुये ग़म रखते हैं 

एक भी मन का मरज़ हम से मिटाया न गया 
दुश्मनों को भी बड़े चाव से हम रखते हैं 

हम भी औरों की तरह जिस्म के अन्दर एक दिल
सिर्फ़ सुन्दर ही नहीं सुन्द-र-तम रखते हैं




----- 

अपनी हद पर ही कमोबेश क़दम रखते हैं
हम समन्दर हैं किनारों का भरम रखते है

जाने किस तर्ह ज़माने में लगा देते हैं आग
वो जो सीने में जलन कम से भी कम रखते हैं

क्या कहा जिस को भी चाहेंगे उठा देंगे आप
आओ इस बार तराजू पे कलम रखते हैं

ये भी सुन्दर है, सितमगर है, सलासिल, सरगुम
अब से दुनिया का भी इक नाम सनम रखते हैं
सलासिल - सिलसला का बहुवचन, बेड़ियाँ, जंजीरें
सरगुम - जिस का आदि-अन्त न हो, एक ईश्वरीय गुण

सिर्फ़ औज़ार के जैसा ही समझते हैं उसे
जिस हथेली पे नज़रबाज़ रक़म रखते हैं

तुम ही कहते थे ग़ज़ल ज़ख्मों को भर देगी 'नवीन'
तुम भी जिद छोड़ दो और हम भी कलम रखते हैं

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

फ़ाएलातुन फ़एलातुन फ़एलातुन फालुन
बहरे रमल मुसम्मन मखबून मुसक्कन

2122 1122 1122 2

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (19-10-2013) "शरदपूर्णिमा आ गयी" (चर्चा मंचःअंक-1403) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. तुम ही कहते थे ग़ज़ल ज़ख्मों को भर देगी 'नवीन'
    तुम भी जिद छोड़ दो और हम भी कलम रखते हैं ..

    बहुत खूब ... क्या बात कही है नवीन जी ... सुभान अल्ला ... काबिले तारीफ़ ...

    ReplyDelete
  3. वाह ..उम्दा ग़ज़ल...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  4. अब आ रहे हैं नवीन भाई अपने पुराने रंग में। पुराने नवीन भाई का स्वागत है।

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।