28 May 2013

जो कुछ भी हूँ पर यार गुनहगार नहीं हूँ - नवीन


हजरत अकबर इलाहाबादी साहब की ज़मीन बाज़ार से गुजरा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ’ पर एक कोशिश

जो कुछ भी हूँ पर यार गुनहगार नहीं हूँ
दहलीज़ हूँदरवाज़ा हूँदीवार नहीं हूँ

छह गलियों से असबाब चला आता है मुझ में
किस तरह से कह दूँ कि ख़रीदार नहीं हूँ
छह गली - छह इंद्रिय  असबाब - सामान

कल भोर का सपना है कोई बोल रहा था
इस पार ही रहता हूँ मैं उस पार नहीं हूँ

सब कुछ हूँ मगर वो नहीं जिस का हूँ तलबगार
मंज़र हूँमुसव्विर भी हूँमेयार नहीं हूँ
तलबगार - ढूँढने वाला / इच्छुकमंज़र - दृश्यमुसव्विर - चित्रकारमेयार - स्तर

जब कुछ नहीं करता हूँ तो करता हूँ तसव्वुर
इस तरह से जीता हूँ कि बेकार नहीं हूँ
तसव्वुर - कल्पना

:- नवीन सी. चतुर्वेदी


बहरे हजज़ मुसमन अखरब मकफूफ महजूफ
मफ़ऊलु मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
221 1221 1221 122

2 comments:

  1. छह गलियों से असबाब चले आते हैं मुझ में
    किस तरह से कह दूँ कि ख़रीदार नहीं हूँ

    खूबसूरत ख्याल ! अतिउत्तम

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter