13 May 2013

कभी जंगलों को जला कर चले - नवीन

जनाब मीर तक़ी मीर साहब की ग़ज़ल फ़क़ीराना आये सदा कर चले” की ज़मीन को दुगुन करते हुये

कभी जंगलों को जला कर चले, कभी आशियाने गिरा कर चले
हवा से कहो है जो इतना गुमाँ, तो बारेमुहब्बत उठा कर चले
बारेमुहब्बत - मुहब्बत का बोझ

निभाता है इस से तो छूटे है वो, मनाता है इस को तो रूठे है वो
बशर की भी अपनी हदें हैं जनाब, कहाँ तक सभी से निभा कर चले
 बशर-मनुष्य

ये जीवन है काँटों भरा इक सफ़र, हरिक मोड़ पर हैं अगर या मगर
वही क़ामयाबी का लेता है लुत्फ़, जो दामन को अपने बचा कर चले

अजल से यही एक दस्तूर है, जो कमज़ोर है वो ही मज़बूर है
उसे ये ज़माना डरायेगा क्या, जो आँखें क़ज़ा से मिला कर चले
 अजल - आदिकालक़ज़ा - मौत

नवीन सी. चतुर्वेदी 

बहरे मुतक़ारिब मुसम्मन मक़्सूर

फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊ
१२२ १२२ १२२ १२

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter