30 December 2013

बजारन में दिखबे लगे चन्द्रमा - नवीन

बजारन में दिखबे लगे चन्द्रमा
सितारे ऊ बनिबे लगे चन्द्रमा

ह्रिदे में हुलसिबे लगे चन्द्रमा
अटारिन पे चढिबे लगे चन्द्रमा

समझ ल्यो नई रौसनी मिल गई
किताबन कूँ पढ़िबे लगे चन्द्रमा

पढ़्यौ जब सूँ दुस्यंत-साकुन्तलम
फरिस्तन सूँ डरिबे लगे चन्द्रमा

खुदइ तन सूँ बदरन कूँ लिपटाय कें
अँधेरेन सूँ मिलबे लगे चन्द्रमा

: नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे मुतक़ारिब मुसम्मन मक़्सूर
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़उल

122 122 122 12

बाज़ारों में दिखने लगे चन्द्रमा
सितारे भी बनने लगे चन्द्रमा

हृदय में हुलसने [ख़ुश होना] लगे चन्द्रमा
अटारिन [अटारियों] पे चढ़ने लगे चन्द्रमा

समझ लो नयी रौशनी मिल गई
किताबात पढ़ने लगे चन्द्रमा

पढ़ा जब से दुष्यन्त-शाकुंतलम
फ़रिश्तों से डरने लगे चन्द्रमा

ख़ुद ई तन से अब्रों को लिपटाय के
अँधेरों से मिलने लगे चन्द्रमा

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter