27 September 2012

बिहारी के दोहे

नहिं पराग नहिं मधुर मधु नहिं विकास इहि काल।
अली कली में ही बिंध्यो आगे कौन हवाल।।

चिरजीवौ जोरी जुरै, क्यों न सनेह गँभीर।
को घटि ये वृषभानुजा, वे हलधर के बीर॥

कोटि जतन कोऊ करै, परै न प्रकृतिहिं बीच।
नल बल जल ऊँचो चढ़ै, तऊ नीच को नीच।।


या अनुरागी चित्त की, गति समुझै नहिं कोइ।
ज्यों-ज्यों बूड़ै स्याम रंग, त्यों-त्यों उज्ज्वल होइ॥

कहति नटति रीझति खिजति मिलति खिलति लजि जात।
भरे भौन में होत है, नैनन ही सों बात॥

गोरे मुख पै तिल बन्यो, ताहि करौं परनाम।
मानो चंद बिछाइकै, पौढ़े सालीग्राम॥

1 comment:

  1. सतसइया के दोहरे अरु नाविक के तीर
    देखन में छॊटन लगें, घाव करें गंभीर ...

    साझा किये गये बिहारीदास के दोहों में पहला ही दोहा अपने अद्भुत और अन्वर्थ के लिये प्रसिद्ध रहा है.
    फिर दूसरे दोहो को क्या कहा जाय ! .. वाह !!

    या अनुरागी चित्त की.. . पर पन्ने-पन्ने भरे जा सकते हैं.
    कहति नटति रीझति खीजति.. . में इंगितों का लालित्य अपने पूरे निखार पर है.
    कहना नहीं होगा, बिहारी बिहारी हैं !

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter