27 July 2013

जो इतना ही गिला है तीरगी से- नवीन

जो इतना ही गिला है तीरगी से
सहर सज कर दिखा दे रौशनी से

हरा कर तो दिया दिल को जला कर
मैं चाहूँ और क्या अब आशिक़ी से

 मुझे तब्दीलियाँ कम ही करेंगी
शकर निकलेगी कितनी चाशनी से

 मिरे दर पर नहीं आती मुसीबत
मैं ख़ुश होता अगर सब की ख़ुशी से

तसल्ली की फुहारें छोड़ती है
जुड़ी हो गर तजल्ली बन्दगी से

बशर लेते हैं यूँ मंदर के फेरे

कि जैसे भागते हों सब सभी से


:- नवीन सी. चतुर्वेदी

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter