15 February 2013

आउते बसंत कंत संत बन बैठे री - यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम'

चाँह चित चाँहक की चाँहि कें चतुर चारु,
चाउ ते चली कर चरचित इकैठे री

पाउते सु 'प्रीतम' के हाव दरसाउ भूरि
भाउते करौंगी मिल मन के मनेंठे री

जाउते बिलोके तौ बरन कछु औरें बन्यौ
ध्याउते दृगन मूँदि भौंहन उमैठे री

छाउते छये न छत छेद छये छाती क्यों कि
आउते बसंत कंत संत बन बैठे री 



छाँड़ि हठ हौं तौ अरी आपु ही सु जाइ ढिंग
भाँति-भाँति भावन के गुनन सों गेंठे री

'प्रीतम' पियारे प्रान पिघले न नेंकु तऊ
टेक राखि आपनी ही और अति एंठे री

ज्यौं-ज्यौं हौं मनाऊँ त्यौं-त्यौं साधत समाधि जैसी
बाँधत न हीर हिय करत अमेंठे री

मानौं मेल अंत कर इकंत में निछन्त है
आउते बसंत कंत संत बन बैठे री 

:- यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम'

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (16-02-2013) के चर्चा मंच-1157 (बिना किसी को ख़बर किये) पर भी होगी!
    --
    कभी-कभी मैं सोचता हूँ कि चर्चा में स्थान पाने वाले ब्लॉगर्स को मैं सूचना क्यों भेजता हूँ कि उनकी प्रविष्टि की चर्चा चर्चा मंच पर है। लेकिन तभी अन्तर्मन से आवाज आती है कि मैं जो कुछ कर रहा हूँ वह सही कर रहा हूँ। क्योंकि इसका एक कारण तो यह है कि इससे लिंक सत्यापित हो जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि किसी पत्रिका या साइट पर यदि किसी का लिंक लिया जाता है उसको सूचित करना व्यवस्थापक का कर्तव्य होता है।
    सादर...!
    बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ!बेहतरीन अभिव्यक्ति.सादर नमन ।।

    ReplyDelete
  3. behatareen abhivyakti... basant panchami ki shubhkamnaye..

    ReplyDelete



  4. ♥✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥❀♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿♥
    ♥बसंत-पंचमी की हार्दिक बधाइयां एवं शुभकामनाएं !♥
    ♥✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥❀♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿♥



    परम आदरणीय गुणीश्रेष्ठ पं.यमुना प्रसाद जी चतुर्वेदी 'प्रीतम' द्वारा सृजित
    ये अद्भुत कवित्त पढ़ने का अवसर देने के लिए
    प्रिय बंधुवर नवीन जी आपके प्रति हृदय से आभार !

    पंडित जी की रचनाएं पहले भी यहां देखने का सौभाग्य मिल चुका है ।
    संभव हो तो भावार्थ भी संलग्न कर देने की कृपा करें , ताकि कुछ भी छूट न पाए ...
    :)



    बसंत पंचमी सहित
    सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. bahut sundar ..prastuti aapka blog gyanvardhak jankariyon se paripurn hai prasannata hui yahan aakar badhai

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter