4 April 2011

भद्रजनों की रीत नहीं ये संगाकारा

हार गए जो टॉस, किसलिए उसे नकारा|
भद्रजनों की रीत, नहीं ये संगाकारा|
देखी जब ये तुच्छ, आपकी आँख मिचौनी|
चौंक हुए स्तब्ध, जेफ क्रो, शास्त्री, धोनी|1|

तेंदुलकर, सहवाग, ना चले, फर्क पड़ा ना|
गौतम और विराट, खेल खेले मर्दाना|
धोनी लंगर डाल, क्रीज़ से चिपके डट के|
समय समय पर दर्शनीय, फटकारे फटके|2|

जब सर चढ़े जुनून, ख्वाब पूरे होते हैं|
सब के सम्मुख वीर, बालकों से रोते हैं|
दिल से लें जो ठान, फिर किसी की ना मानें|
हार मिले या जीत, धुरंधर लड़ना जानें|3|

त्र्यासी वाली बात, अब न कोई बोलेगा|
सोचेगा सौ बार, शब्द अपने तोलेगा|
अफ्रीका, इंगलेंड, पाक, औसी या लंका|
सब को दे के मात, बजाया हमने डंका|4|

छन्द - रोला

21 comments:

  1. वाह भई वाह। यह तो हुई ठाले बैठे, अब कुछ बैठे ठाले भी हो जाये।

    ReplyDelete
  2. बेहद उम्दा ... मज़ा आ गया पढ़ कर !

    ReplyDelete
  3. Badiya ! bahut badiya !! Rolaa chhand kaa nirwah
    aapne bkhoobee kiyaa hai . Badhaaee aur shubh kamna .

    ReplyDelete
  4. शानदार रोलों के लिए बधाई स्वीकार कीजिए।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिया, नवीन भाई,
    आप तो आशुकवि हैं।

    ReplyDelete
  6. तिलक भाई साब आप की टिप्पणी का स्वागत है|

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत शुक्रिया अरुण भाई

    ReplyDelete
  8. आदरणीय प्राण शर्मा जी आप की शुभेच्छाओं के लिए बारम्बार धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद धर्मेन्द्र भाई

    ReplyDelete
  10. आभार महेंद्र भाई| आप की बहुमूल्य टिप्पणियाँ सदैव ही उत्साह वर्धन करती हैं| आप का छोटा भाई हूँ, बस अपने काम को करने का प्रयास मात्र कर रहा हूँ| आप सभी साहित्य रसिकों का सहयोग मिल रहा है, ये मेरा सौभाग्य है|

    ReplyDelete
  11. नाक कटा ली संगाकारा ने, फिर हार भी गये।

    ReplyDelete
  12. हाँ प्रवीण भाई, सहवाग को शतक से वंचित करने वाले इन के कुकृत्य को दुनिया अभी भूली भी नहीं थी - कि एक और कारनामे को अंजाम दे गये ये लोग|

    ReplyDelete
  13. Maza aaya Navin ji .... majedaar rola pela hai ...
    Bharat ki jeet par bahut bahut badhaai ...

    ReplyDelete
  14. शेखर चतुर्वेदीTue Apr 05, 02:30:00 pm 2011

    वाह भाईसाब बहुत खूब कहा आपने | पढ़ के अच्छा लगा | बधाई !!!

    ReplyDelete
  15. वाह नवीन जी शानदार रोला.....ये रोला हैं या बम के गोला ....मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  16. आभार दिगंबर भाई जो आप ने हमारे द्वारा पेले हुए रोल झेल लिए

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद शेखर भाई,

    ReplyDelete
  18. आदरणीय त्रिपाठी जी हैं तो ये रोला ही, बाकी तो आप जो पहचान दे दें इन्हें| आपके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूँ ईश्वर से|

    ReplyDelete
  19. शुक्रिया दिलबाग भाई

    ReplyDelete