27 July 2011

कहते उसी को घर


बच्चे - बड़े - बूढ़े   जहाँ  पर,  प्यार  से  बातें  करें|
अपनत्व के तरु* से अहर्निश*, फूल खुशियों के झरें|
मृदुहास मय परिहास एवम आपसी विश्वास हो|
कहते उसी को 'घर', जहाँ, सुख - शांति का आभास हो||

*
तरु - पेड़, वृक्ष 
अहर्निश - रात-दिन, हमेशा  
===============================================
मात्रिक छन्द - हरिगीतिका

  • १६+१२=२८मात्रा
  • प्रत्येक चरण में १६ मात्रा के बाद यति / ध्वनी विराम [बोलते हुए रुकना]
  • चार चरण वाला छंद 
  • पहले-दूसरे तथा तीसरे-चौथे चरणों का तुकांत समान होना चाहिए 
  • चारों चरणों का तुकांत भी समान हो सकता है 
  • हर चरण के अंत में लघु-गुरु [१२] अनिवार्य


[छंद संदर्भ - श्री राम चंद्र कृपालु भज मन हरण भवभय दारुणं]
===============================================

उपरोक्त हरिगीतिका छन्द की मात्रा गणना:-

पहला चरण:-
बच्चे-बड़े-बूढ़े जहाँ पर,
२२    १२  २२  १२  ११ = १६ मात्रा तथा यति
प्यार से बातें करें|
२१  २  २२   १२  = 12 मात्रा, अंत में लघु गुरु

दूसरा चरण:-
अपनत्व के तरु से अहर्निश, 
११२१   २   ११  २   १२११ = १६ मात्रा तथा यतिफूल खुशियों के झरें|२१   ११२     २  १२ = 12 मात्रा, अंत में लघु गुरु

तीसरा चरण:-
मृदुहास मय परिहास एवम
११२१   ११   ११२१   २११ = १६ मात्रा तथा यति
आपसी विश्वास हो|
२१२    २२१     २ = 12 मात्रा, अंत में लघु गुरु

चौथा चरण:-
कहते उसी को घर जहाँ, सुख-
११२   १२   २   ११  १२  ११ = १६ मात्रा तथा यति
शांति का आभास हो||
२१   २     २२१   २ = 12 मात्रा, अंत में लघु गुरु

===============================================

14 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर स्तुत्स कार्य

    ReplyDelete
  2. सुन्दर संदेश युक्त, छंद शिक्षा!!

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल सही व्याख्या की है घर की।

    ReplyDelete
  4. काव्य शास्त्र का विज्ञान आपके चरणों में बैठ कर सीखना होगा... बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  5. समझने का प्रयत्न कर रहा हूं।

    ReplyDelete
  6. "कहते उसी को 'घर' जहाँ सुख-शांति का आभास हो"

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति........ बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  8. कविताओं की मात्रा तो नहीं समझा पर अर्थ में आनन्द की मात्रा कहीं अधिक थी।

    ReplyDelete
  9. sachmuch aapka 'ghar' utkrisht hai !

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. हर गीतिका को स्पष्ट करती पंक्तियाँ |
    आशा

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter