30 July 2011

बनिए जो आगेवान, काम करिए महान

बात-बात पे बहस, करे तहस नहस,
बात करिए सरस, कस के न बोलिए|

मन में रहे न बैर, तो सदा रहेगी खैर,
अपना हो या कि गैर, गुण ही टटोलिए|

छोड़ के बुराइयों को, जोड़ के भलाइयों को
ओढ़ के बधाइयों को, फूले-फूले डोलिए|

बनिए जो आगेवान, काम करिए महान
तारीफ करें सुजान, ऐसी राह खोलिए||

शब्दार्थ:-
आगेवान = नेतृत्व करने वाला / वाले
सुजान - बुद्धिमान व्यक्ति / सज्जन

===================================


रस-छंद-अलंकार के प्रेमियों के हितार्थ:-

यह अनुप्रास अलंकार युक्त घनाक्षरी छन्द है|
छेकानुप्रास, वृत्यानुप्रास, लाटानुप्रास, अन्त्यानुप्रास तथा श्रुत्यानुप्रास
ये पांच भेद हैं अनुप्रास अलंकार के और ये पाँचो के पाँचो प्रकार
इस एक ही छंद में मौजूद हैं|
===================================

3 comments:

  1. मन में रहे न बैर, तो सदा रहेगी खैर,
    अपना हो या कि गैर, गुण ही टटोलिए|
    यह हुई ना सही बात चौवे जी ......

    ReplyDelete
  2. सौदेश्य पोस्ट ,भाव पूर्ण सह -भावित रचना .कर भला हो भला अंत भले का भला .

    ReplyDelete
  3. वाह, नवीन जी, कमाल है..।
    विविध अलंकारों ने छंद की सुंदरता में चार चांद लगा दिए हैं।

    ReplyDelete