11 मार्च 2011

बरसाने की लठामार होली

महीना पच्चीस दिन दूध-घी उड़ामें और  
जाय कें अखाडें दण्ड-बैठक लगामें हैं|
 
मूछन पे ताव दै कें जङ्घन पे ताल दै कें
नुक्कड़-अथाँइन पे गाल हू बजामें हैं|
 
पिछले बरस बारौ बदलौ चुकामनौ है,
पूछ मत कैसी-कैसी योजना बनामें हैं|
 
लेकिन बिचारे बीर बरसाने पौंचते ही,
लट्ठ खाय गोपिन सों घर लौट आमें हैं||

19 टिप्‍पणियां:

  1. होली की शुभकामनाएं।
    आपने तो अभी से होली की उमंग ला दिया।

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. बरसाने की होली का जीवंत चित्रण !
    आद. नवीन जी, इस सुन्दर रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें !
    आभार !

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना..मेरा भी सम्बन्ध मथुरा से होने के कारण, ब्रजभाषा में रचना पढ़ कर बहुत अपनापन लगा..बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया चित्रण बरसाने कि होली का ...सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. बड़ी ही रोचक लगती है वह होली, सुन्दर कविता।

    जवाब देंहटाएं
  7. होली का रोचक चित्रण किया है शब्दों से। बधाई आपकोा।

    जवाब देंहटाएं
  8. अतुल श्रीवास्तव जी आप को भी होली की अग्रिम शुभ कामनाएँ| हमारे ब्रज में तो फागुन लगते ही होली वाला माहौल हो जाता है|

    जवाब देंहटाएं
  9. भाई ज्ञान चंद्र मर्मज्ञ जी आभार

    जवाब देंहटाएं
  10. भाई कैलाश शर्मा जी आप भी मथुरा से हैं ये जान कर अत्यधिक प्रसन्नता हुई| आप तो फिर बरसाने की होली का प्रत्यक्ष आनंद ले चुके होंगे| सराहना के लिए सहृदय आभार|

    जवाब देंहटाएं
  11. आदरणीया संगीता स्वरूप जी सराहना के लिए बहुत बहुत आभार

    जवाब देंहटाएं
  12. भाई प्रवीण पाण्‍डेय जी घांकाक्षरी कवित्तों की सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  13. भाई रजनीश तिवारी जी सराहना के लिए आभार

    जवाब देंहटाएं
  14. आदरणीया निर्मला कपिला जी आपका आशीष पाना सदैव ही आनंद दायक होता है मेरे लिए

    जवाब देंहटाएं
  15. अरे वाह होली की मजेदार कविता..... सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 15 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    जवाब देंहटाएं
  17. आदरणीया सांगीता स्वरूप जी मेरे प्रयास को चर्चा का हिस्सा बनाने के लिए आभार

    जवाब देंहटाएं