29 April 2012

शिव स्तुति - यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम'

यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम'
11.05.1931 - 14.03.2005
गुरुदेव श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी 'ठाले-बैठे' पर पहली बार।
श्री गणेश, 'गणेश पिता शिव जी' की स्तुति से कर रहे हैं। आने वाले
समय में एक एक कर के हम 'प्रीतम' जी विरचित 'दैव-स्तुति', 
'ऋतु वर्णन', 'समस्या-पूर्ति', 'सामाजिक सरोकार', राष्ट्र हित 
चिन्तन'  तथा ऐसे अनेक विषयों से जुड़े छंदों को भी पढ़ेंगे।

27 April 2012

बँधी मुट्ठी में जैसे कोई तितली फड़फड़ाती है - पवन कुमार


शायर पवन कुमार



 शायर पवन कुमार का दमदार आग़ाज़ “वाबस्ता
समीक्षा - मयंक अवस्थी
प्रकाशन संस्थान, 4268-B/3, दरिया गंज
नई दिली -110002

25 April 2012

आईने से सवाल क्या करना - शैलजा नरहरि [3 ग़ज़लें]



आईने से सवाल क्या करना
दर्द का हस्बेहाल क्या करना

किरचों किरचों बिखर गया है जो
आज उस का मलाल क्या करना

21 April 2012

चार ग़ज़लें - नरहरि अमरोहवी

[१]

क़ब्र के सिरहाने आशिक टूट कर रोया कोई
ढूँढिये मोती वहाँ मिल जाएगा यक़ता कोई

अब नहीं मुमकिन यहाँ ठंडी हवा के वास्ते
साँस लेने को खुले खिड़की या दरवाज़ा कोई

7 April 2012

दिल में यही तमन्ना है सारी दुनिया की सैर करूँ


संस्कार पत्रिका ने इस कविता को अप्रैल'१२ के 'पर्यटन विशेषांक' में [भारत पर केन्द्रित करते हुए] छापा है।



देश-गाँव-शहरों-कस्बों से अनुभव का हर पृष्ठ भरूँ
दिल में यही तमन्ना है सारी दुनिया की सैर करूँ

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।