22 August 2013

सनसनीखेज़ हुआ चाहती है - नवीन

सनसनीखेज़ हुआ चाहती है 
तिश्नगी तेज़ हुआ चाहती है 
तिश्नगी - प्यास 

हैरत-अंगेज़ हुआ चाहती है 
आह - ज़रखेज़ हुआ चाहती है 
ज़रखेज़ - उपजाऊ [ज़मीन]

अपनी थोड़ी सी धनक दे भी दे 
रात रँगरेज़ हुआ चाहती है 

आबजू देख तेरे होते हुये 
आग - आमेज़ हुआ चाहती है 
आबजू - झरना-नदी-नहर आदि, आमेज़ - मिलाने वाला 

बस पियाला ही तलबगार नहीं 
मय भी लबरेज़ हुआ चाहती है 
लबरेज़ - लबालब भरा हुआ, लबालब भरना  

रौशनी तुझ से भला क्या परहेज़ 
तू ही परहेज़ हुआ चाहती है 

हम फ़क़ीरी के 'इशक' में पागल 
जीस्त - पर्वेज़ हुआ चाहती है 
जीस्त - ज़िन्दगी, परवेज़ - प्रतिष्ठित, विजेता के सन्दर्भ में 

:- नवीन सी. चतुर्वेदी 

बहरे रमल मुसद्दस मखबून मुसक्कन 
फ़ाएलातुन फ़एलातुन फ़ालुन 

2122 1122 22

5 comments:

  1. बहुत बहुत सुन्दर.बहुत खूब.बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  2. उम्दा सोच की उत्तम प्रस्तुति
    लाजबाब ग़ज़ल बन गई

    ReplyDelete
  3. ऐसी हिन्दी का क्या हासिल श्याम,
    उर्दू-लवरेज हुआ चाहती है |


    ReplyDelete
  4. कुछ अलग ही है यह रचना !
    बधाई !

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter