30 November 2010

लघु कथा : घोटाला

पति:-
[अख़बार पढ़ते हुए]
अजी सुनती हो, तुमने पढ़ा क्या एक और घोटाला राजनेताओं का?

पत्नी:-
[अनसुना करते हुए]
आपने बताया नहीं, आपकी जेब में जो २० हज़ार पड़े हैं, वो कहाँ से मिले आपको?

3 comments:

  1. क्या आपने ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?


    अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    ReplyDelete
  2. ला जवाब !!
    विषय का चुनाव तो बेहतर है ही
    लेकिन
    संक्षिप्तता ...
    इस लघु-कथा की जान है
    मुबारकबाद .

    ReplyDelete
  3. आप की बहुमूल्य टिप्पणी के लिए आभार दानिश भाई

    ReplyDelete