16 December 2010

नवगीत : आप हम सब खुश रहें

आप हम सब खुश रहें!

खेत खलिहानों में
पैदावार हो,
हसरतों का ना कहीं
व्यापार हो,
बाल बच्चों को मिले
शिक्षा अमित,
बहन बेटी घूम पाएँ
भय रहित,
हो तरक्की
और
नदियाँ भी बहें|
आप हम सब खुश रहें।1|

गैर की दहलीज पर
जब जाएँ हम,
मोल इज़्ज़त का
न दे के आएँ हम,
बाँह फैला के
सभी को स्थान दें,
साथ ही सरहद पे भी
हम ध्यान दें,
ताकि भावी पीढ़ियाँ
सब सुख लहें|
आप हम सब खुश रहें।2|

हम रहें खुश
इस तरह कुछ
इस बरस,
विश्व को
आए न हम तुम पे
तरस,
हम भी हैं कुछ
विश्व को
बतलाएँ हम,
कंधे से कंधा मिला
बतियाएँ हम,
देख तन गोरा
न स्तर से ढहें|
आप हम सब खुश रहें।3|

19 comments:

  1. jivan ki khushiyon ki praarthana sundar hai !

    ReplyDelete
  2. साथ ही सरहद पे हम ध्यान दें।
    अच्छी अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. अपर्णा जी आपकी बहुमूल्य टिप्पणी के लिए आभार

    ReplyDelete
  4. भाई संजय दानी जी हौसला अफजाई के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  5. बाल बच्चों को मिले
    शिक्षा अमित
    बहन बेटी घूम पाएँ
    भय रहित
    हो तरक्की
    और
    नदियाँ भी बहें
    आप हम सब खुश रहें।

    सबकी मंगल कामना करती एक उत्कृष्ट कविता...शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. बेहद सुन्दर भावना लिए हुए है आपकी यह मंगल कामना.

    ReplyDelete
  7. आभार वंदना जी और महेद्र जी| मेरे किंचित प्रयास को आप के उत्साह वर्धन से नयी ऊर्जा मिली है|

    ReplyDelete
  8. विकट समस्या है की "हसरतों" का व्यापार मंदी में चल रहा है, वर्तमान जीवन की जटिलता बढ़ने का यही कारण है.....

    सुन्दर विचारों से सजी, बेहतरीन प्रस्तुति.
    आपका साधुवाद

    मुझे मित्र के रूप में स्वीकार करें.

    अरविन्द जांगीड, सीकर (राज.)

    ReplyDelete
  9. सर्वे भवन्तु सुखिनः की पावन प्रार्थना सी सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  10. अनुपमा पाठक जी ने सही लिखा।
    ..बधाई।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर नवगीत। बधाई।

    ReplyDelete
  12. अच्छे बिम्बों से सजा हुआ सुन्दर नवगीत!
    बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  13. bahut achchhe tareeke se aapne nav varsh ki kaamnayein di hain.
    aapko aur aapke saare pariwaar v doston ko nav varsh ki haardik shubhkaamnaayein.

    ReplyDelete
  14. भाई अरविंद जांगिड जी बहुत बाहुत आभार उत्साह वर्धन के लिए

    ReplyDelete
  15. भाई देवेन्द्र पाण्डेय जी, आभार आपकी शुभकामनाओं के लिए

    ReplyDelete
  16. डा. शरद बहन जी आभार

    ReplyDelete
  17. आदरणीय शास्त्री जी आपका आशीर्वाद मेरे लिए अनमोल है

    ReplyDelete
  18. हमारे प्रिय लव गुरु जी आपको भी नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete