12 August 2016

ब्रज गजल - ब्रज भूषण चतुर्वेदी 'दीपक'

Braj Bhushan Chaturvedi Deepak's profile photo
ब्रज भूषण चतुर्वेदी 'दीपक' 

मन में जब सौं आन बसी है 
तेरी प्रीत सयानी सी ।
बिन बदरा के सावन बरस्यौ
दुनियाँ लगै दिवानी सी ।
बिना फूंक के बजी बंसुरिया 
नैया बिन पतवार चली ।
बिना पवन के नील गगन में
धुजा लगी फहरानी सी ।
हर मौसम मधुमास है गयौ 
हर आँगन ज्यौं फुलवारी ।
बाग़ बगीचन ओढ़ लई है 
आज चुनरिया धानी सी ।
भरे गाम के ताल तलैया 
बिन चौमासे झर लागे ।
कीच भई है आँगन आँगन
प्रीत रीत उमगानी सी ।
धरती अम्बर दिसा दिसा सब
तेरी सी उनिहार लगै ।
पूरी दुनियां दीखै तेरी मेरी 
प्रेम कहानी सी ।
ब्रज भूषण चतुर्वेदी दीपक
8057697209

ब्रज गजल

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter