12 August 2016

ब्रज गजल - ब्रज भूषण चतुर्वेदी 'दीपक'

Braj Bhushan Chaturvedi Deepak's profile photo
ब्रज भूषण चतुर्वेदी 'दीपक' 

मन में जब सौं आन बसी है 
तेरी प्रीत सयानी सी ।
बिन बदरा के सावन बरस्यौ
दुनियाँ लगै दिवानी सी ।
बिना फूंक के बजी बंसुरिया 
नैया बिन पतवार चली ।
बिना पवन के नील गगन में
धुजा लगी फहरानी सी ।
हर मौसम मधुमास है गयौ 
हर आँगन ज्यौं फुलवारी ।
बाग़ बगीचन ओढ़ लई है 
आज चुनरिया धानी सी ।
भरे गाम के ताल तलैया 
बिन चौमासे झर लागे ।
कीच भई है आँगन आँगन
प्रीत रीत उमगानी सी ।
धरती अम्बर दिसा दिसा सब
तेरी सी उनिहार लगै ।
पूरी दुनियां दीखै तेरी मेरी 
प्रेम कहानी सी ।
ब्रज भूषण चतुर्वेदी दीपक
8057697209

ब्रज गजल

No comments:

Post a Comment