31 July 2014

दोहे – बी. के. शर्मा ‘शैदी’

 तुलसी पूजे कामिनी, कैसा शान्त स्वभाव
रीति-काल का रूप है भक्ति-काल के भाव

कैसी हुई महावरी, उस कदम्ब की छाँव
जल में होती के हिलें, मँहदी वाले पाँव

प्रियतम नयनों में बसे, जब हों पलकें बन्द
जैसे – मोती सीप में; कलियों में मकरन्द

मिला पुराने बक्स में, आज तुम्हारा पत्र
यादों की शहनाइयाँ, गूँज उठीं सर्वत्र

अधरों पर निश्छल हँसी, तन की मादक लोच

तुलसी की चौपाइ में, कालिदास की सोच 

:- बी. के. शर्मा ‘शैदी’

1 comment:

  1. मन बिरोध कुल जग शोध, खल भल करे सुबोध |
    तुलसी दास सुरग गये, अमरत लहे प्रबोध | |

    भावार्थ : -- मन का विरोध कर कुल एवं जग को शुद्ध कर खा एवं भल दोनों को ही ज्ञानी कर तुलसी दास जी तो स्वर्ग सिधार गए उनका ज्ञान अमरत्व को प्राप्त हो गया ||

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter