1 February 2014

बस एक शब्द के अन्तर से दो छन्द - गोपाल कृष्ण भट्ट 'आकुल'

भोजन भजन बनाइये, दिनचर्या अविराम।
योग, मनन चिंतन करे, बदन नयन अभिराम।
बदन नयन अभिराम, संतुलित भोजन करिए।
घूमो सुबहो शाम,मनन अरु चिंतन करिए।
कह ‘आकुल’ कविराय, भजन से भागे जो जन।
ना पाये संतोष, करे कैसा भी भोजन।

'भजन' के स्‍थान पर 'भ्रमण' से स्‍वरुप देखें-

भोजन भ्रमण बनाइये, दिनचर्या अविराम।
योग, मनन चिंतन करे, बदन नयन अभिराम।
बदन नयन अभिराम, संतुलित भोजन करिए।
घूमो सुबहो शाम, मनन अरु चिंतन करिए।
कह ‘आकुल’ कविराय, भ्रमण से भागे जो जन।

रुग्ण वृद्ध हो शीघ्र, करे कैसा भी भोजन।

1 comment:

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter