31 July 2014

भोजपुरी गजलें - पवन श्रीवास्तव

 उल्टा-सीधा पाठ पढ़ा के पहिले त भरमावल जाई 
ना मनिहें त सोंटा लेके बबुआ के सरीआवल जाई .

गर्म मिजाजन के गर्मी के सपना से सेरवावल जाई 
झूठ के इंधन बारके बबुआ साँच में आँच लगावल जाई 

अब्बर देबी जब्बर बोका ,सांकल पंडित ,बहकल पूजा 
अबकी बोका के बेदी पर देबी-मुंड चढ़ावल जाई 

जबतक उनकर तेल जरत बा सगरी गाँव अँजोर भइल बा
बाकि जहिया उ खिसिअहिएँ ,कइसे दीप  जरावल जाई ?

तूँहूँ चेत$ " पवन’’ कि लगले अब खतरा के घंटी बाजी 
आखिर ई कब तक ले-देके आपन काम चलावल जाई 



रुसल राग मनाईं कईसे
प्रेम के गितिया गाईं कईसे

हम सावन के बादर नइखीं
लहकत गाँव बुताईं कईसे

मारू बाजा बाज रहल बा 
धीरे हम  बतिआईं कईसे 

जेकरा मति में भाँग परल बा 
ओकरा के समझाईं कईसे 

देबी देवता सुनते नइखन 
राछस से बतियाईं कईसे 

पार पहाड़न के मंजिल बा 
अतना साँस जुटाईं कईसे 

बोलला में खतरा बा ,बाकी

जिभिया के समझाईं कईसे

:- पवन श्रीवास्तव
Mob.09471237644

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter