28 February 2014

होली के दोहे - सत्यनारायण सिंह

मस्ती तन-मन में जगे, आते ही मधुमास।
फागुन में होता सखी, यौवन का अहसास।।

लाल चुनर में यौवना, ढाये गजब कमाल।
होली पर गोरी करे, साजन सङ्ग धमाल।।

मस्ती छायी अङ्ग में, लगे अनङ्ग पलास।
फाग आग मन में लगी, इक प्रियतम की आस।।

आते ही मधुमास के, बहका सारा गाँव।
होली पर भारी पड़ा, इक गोरी का दाँव।।
 
यादें फिर मधुरिम हुयी, मधुरिम होली रङ्ग।

होली खेलूँ आज मैं, निज प्रियतम के सङ्ग।।

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter