6 August 2016

याँ से वाँ तक पूरी की पूरी ज़मीन - नवीन

याँ से वाँ तक पूरी की पूरी ज़मीन
ग़म-गजाले की है कस्तूरी ज़मीन
आदमीयत के हरिक बाज़ार में
वक़्त है दूकान दस्तूरी ज़मीन
हर बरस जिस की उजड़ जाती है माँग
ऐसी दुलहन की है मज़बूरी ज़मीन
ताकि बच्चे बोझ मत समझें उसे
माफ़ कर देती है मज़दूरी ज़मीन
आरती का ध्यान धर कर देखिये
क्या महक उठती है कर्पूरी ज़मीन
जैसे ही अम्बर उड़ाता है गुलाल
बाँटने लगती है अड़्गूरी ज़मीन
पाँव तक रखने न दे यम को ‘नवीन’
जिद पे आ जाये जो सिन्दूरी ज़मीन

बहरे रमल मुसद्दस महज़ूफ़
फ़ाइलातुन  फ़ाइलातुन फ़ाइलुन ,
2122 2122 212
नवीन सी चतुर्वेदी


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter