30 November 2014

एक कविता – मोनी गोपाल ‘तपिश’

 तुम जानना चाहते हो मुझे ?
किस सीमा तक
यह निर्धारित करना है तुम्हे ही
तुमने जाने -अनजाने कितनी बार
सोचा है मुझे !
कितनी उलझन होती है
किसी को सम्पूर्ण पाते हुए भी
अधूरा जानने पर !
लोग बताते हैं तुम्हे
जाने कितनी ऐसी बातें
मेरे व्यक्तित्व की जो तुम्हे मिली हैं
केवल सुनने को,देखने जानने को नहीं !
सच यह है कि मैं केवल अभिनेता हूँ
बोल सकता हूँ केवल संवाद
जिनमे अभिनय की गंध स्वाभाविक है
और तुम ?
तुम कलाकार हो
आडम्बरयुक्त बातों को भी
सहजता से कह जाना
कि आभास तक न हो आडम्बर का
विशेषता है तम्हारी
कभी टटोलो सवयं को
मुझे न कुरेद कर
आवश्यक है इस के लिए
तुम्हारे कलाकार की मौत !
तुम पाओगे
मेरे संवाद
बदल गए हैं अपनत्व में
तुम देखोगे
जितना तुम जानते हो मुझे
शायद मैं भी नहीं जनता उतना सवयं को ! 

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter