30 November 2014

हँसते-हँसते गुजार देते हैं, हर गुजरते हुये समय के लोग - नवीन

हँसते-हँसते गुजार देते हैं
हर गुजरते हुये समय के लोग
ख़ामुशी को ज़ुबान देते हैं
शोर करते हुये समय के लोग

हम ने साहिल बनाये दरिया पर
और आतिश को फैलने न दिया
हाय! क्या-क्या समेट लेते थे
उस बिखरते हुये समय के लोग

ऐ तरक़्क़ी जवाब दे हम को
बोल किस-किस पे रड़्ग उँड़ेल आयी
इतना बेरड़्ग हो नहीं सकते
रड़्ग भरते हुये समय के लोग

जो भी उस पार उतर गये एक बार
फिर कभी लौट कर नहीं आये
तैरना भूल जाते हैं शायद
पार उतरते हुये समय के लोग

सूर तुलसी कबीर के किरदार
हम को ये ही सबक सिखाते हैं
ऊँची-ऊँची उड़ान भरते हैं
पर कतरते हुये समय के लोग

स्वर्ग जैसी वसुन्धरा अपनी
जाने कब की बना चुके होते
रोक लेते हैं एक तो हालात
और डरते हुये समय के लोग

बन्दगी सब से आला कोशिश है
और इबादत मशक़्क़ते-उम्दाह
इसलिये ही तो मस्त रहते हैं

रब सुमरते हुये समय के लोग

:- नवीन सी. चतुर्वेदी 


बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून
फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
2122 1212 22

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।