31 July 2014

दोहे – सुशीला शिवराण

 देख ज़हर इंसान का, नहीं नाग ही दंग॥
गिरगिट भी हैरान हैं, देख बदलते रंग।

मन की पीड़ा का यहाँ, कौन करे एहसास।
पत्थर की चट्टान से व्यर्थ नमी की आस ॥

तन-मन से सींचा जिसे, उस बगिया का फूल।
मज़दूरी देने लगा, गया भावना भूल॥

जिसकी छाया मे पली, पा कर शीत बयार ।
उस ही तरू को खा गई, दीमक खरपतवार॥

धन-दौलत की चाह में, भटके लोग तमाम।

विद्‍या जैसा धन कहाँ, गुरुपद जैसा धाम॥

:- सुशीला शिवराण

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter