1 June 2014

कविता - ग्रेविटोन - धर्मेन्द्र कुमार सज्जन



यकीनन ग्रेविटॉन जैसा ही होता है
प्रेम का कण
तभी तो ये दोनों मोड़ देते हैं
दिक्काल के धागों से बुनी चादर
कम कर देते हैं समय की गति

इन्हें कैद करके नहीं रख पातीं
स्थान और समय की विमाएँ
ये रिसते रहते हैं

एक ब्रह्मांड से दूसरे ब्रह्मांड में
ले जाते हैं आकर्षण
उन स्थानों तक
जहाँ कवि की कल्पना भी नहीं पहुँच पाती

अब तक किये गये सारे प्रयोग
असफल रहे
इन दोनों का कोई प्रत्यक्ष प्रमाण
खोज पाने में
लेकिन
ब्रह्मांड का कण-कण
इनको महसूस करता है
यकीनन
ग्रेविटॉन जैसा ही होता है प्रेम का कण


धर्मेन्द्र कुमार सज्जन

9418004272 

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter