10 November 2013

किसी और में वो लचक न थी किसी और में वो झमक न थी - नवीन

किसी और में वो लचक न थी किसी और में वो झमक न थी
जो ठसक थी उस की अदाओं में किसी और में वो ठसक न थी

न तो कम पड़ा था मेरा हुनर न तेरा जमाल भी कम पड़ा
तेरा हुस्न जिस से सँवारता मेरे हाथ में वो धनक न थी


फ़क़त इस लिये ही ऐ दोसतो मैं समझ न पाया जूनून को
मेरे दिल में चाह तो थी मगर मेरी वहशतों में कसक न थी

ये चमन ही अपना  वुजूद है इसे छोड़ने की भी सोच मत
नहीं तो बताएँगे कल को क्या यहाँ गुल न थे कि महक न थी

मेरी और उस की उड़ान में कोई मेल है ही नहीं नवीन

मुझे हर क़दम पै मलाल था और उसे कोई भी झिझक न थी

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे कामिल मुसम्मन सालिम
मुतफ़ाएलुन मुतफ़ाएलुन मुतफ़ाएलुन मुतफ़ाएलुन 
11212 11212 11212 11212 

1 comment:

  1. क्या बात है..

    बहुत खूब

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter