7 June 2013

दिन इक के बाद एक गुजरते हुये भी देख - मुहम्मद अल्वी

दिन इक के बाद एक गुजरते हुये भी देख
इक दिन तू अपने आप को मरते हुये भी देख

हर वक़्त खिलते फूल की जानिब तका न कर
मुरझा के पत्तियों को बिखरते हुये भी देख

हाँ देख बर्फ़ गिरती हुई बाल-बाल पर
तपते हुये ख़याल ठिठुरते हुये भी देख

अपनों में रह के किस लिये सहमा हुआ है तू
आ मुझको दुश्मनों से न डरते हुये भी देख

पैवंद बादलों के लगे देख जा-ब-जा
बगलों से आसमान कतरते हुये भी देख

हैरान मत हो तैरती मछली को देख कर
पानी में रौशनी को उतरते हुये भी देख

उस को ख़बर नहीं है अभी अपने हुस्न की
आईना दे के बनते सँवरते हुये भी देख

देखा न होगा तूने मगर इंतिज़ार में
चलते हुये समय को ठहरते हुये भी देख

तारीफ़ सुन के दोस्त से 'अल्वी' तू ख़ुश न हो
उस को तेरी बुराइयाँ करते हुये भी देख
:- मुहम्मद अल्वी

मफ़ऊलु फाएलातु मुफ़ाईलु फाएलुन
221 2121 1221 212
बहरे मुजारे मुसमन अखरब मकफूफ़ महजूफ

4 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. अपनों में रह के किस लिये सहमा हुआ है तू
    आ मुझको दुश्मनों से न डरते हुये भी देख..

    क्या बात है ....यही तो ज़ज्बा है ...

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter