6 August 2016

दोहे - नवीन

दोहे
सारे ही संसार को, भेड़चाल मत बोल। 
बस नवीन उलझाव की, गाँठ पुरानी खोल॥
नित-नवीन आनन्द-मय, रस बरसे ख़ुश-रंग। 
हम सब हम-आहंग हों, तो सार्थक सत्संग॥
मति मधुबन-रंगन रँगै, ज्ञान तजै निज-रंग। 
हिय भींजै रस-वृष्टि सों, धन्य-धन्य सत्संग॥
यह नवीन घुड़दौड़ भी, जीत जायँगे क्रूर। 
गौतम भी मजबूर थे, हम भी हैं मजबूर॥
दो मनुष्य रस-सिन्धु का, कर न सकें रस-पान। 
एक जिसे अनुभव नहीं, दूजा अति-विद्वान॥
हम नवीन रस-सिन्धु का, कैसे करते पान। 
सारा अमरित पी गया, इक थोथा अभिमान॥
वही पुरानी-पीर है, नहिं नवीन अवसाद। 
कुछ लोगों ने खेत को, समझ रखा है खाद॥
हर नवीन युग ने उसे, दिये नवीनायाम। 
तसवीरों को देख लो, अलग-अलग हैं राम॥
तब से अब तक सौ गुना, फैल चुका संसार। 
सभ्य-सभाओं का मगर, बढा नहीं आकार॥


नवीन सी. चतुर्वेदी 

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter