13 August 2016

बरवै गीत - प्रमोद वाजपेयी

Pramod Bajpai's profile photo
प्रमोद वाजपेयी


क्या फागुन की मस्ती, क्या उल्लास।
अपने घर तो सावन – बारह मास॥

बरसे मधु पर कैसे खेलें फाग।
सुलग रही बिरहा की तन में आग।
बुझे न खारे पानी से यह प्यास॥
अपने घर तो सावन बारह मास॥

पिया गये परदेस न देते धीर।
कौन हरे इस व्याकुल मन की पीर।
टूटी सब उम्मीदें हर विश्वास॥

प्रमोद वाजपेयी
9899035885

कवि ने यह बरवै-गीत एक प्रयोग के बतौर रचा है


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter