30 November 2014

डॉक्टर खुद को खुदा समझ ले - सञ्जीव वर्मा ‘सलिल’

आचार्य सञ्जीव वर्मा सलिल

  
डॉक्टर खुद को खुदा समझ ले
तो मरीज़ को राम बचाये

लेते शपथ न उसे निभाते
रुपयों के मुरीद बन जाते
अहंकार की कठपुतली हैं
रोगी को नीचा दिखलाते
करें अदेखी दर्द-आह की
हरना पीर न इनको भाये
डॉक्टर खुद को खुदा समझ ले
तो मरीज़ को राम बचाये

अस्पताल या बूचड़खाने?
डॉक्टर हैं धन के दीवाने
अड्डे हैं ये यम-पाशों के
मँहगी औषधि के परवाने
गैरजरूरी होने पर भी
चीरा-फाड़ी बेहद भाये
डॉक्टर खुद को खुदा समझ ले
तो मरीज़ को राम बचाये

शंका-भ्रम घबराहट घेरे
कहीं नहीं राहत के फेरे
नहीं सांत्वना नहीं दिलासा
शाम-सवेरे सघन अँधेरे
गोली-टॉनिक कैप्सूल दें
आशा-दीप न कोई जलाये
डॉक्टर खुद को खुदा समझ ले

तो मरीज़ को राम बचाये

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter