30 November 2014

दोहे - मनोहर अभय

दोहे – मनोहर अभय
+91 9773141385


हम बरगद जैसे विटप फैलीं शाख प्रशाख ,
धूप सही छाया करी पंछी पाले लाख .

आठ गुना सम्पद बढ़ी ड्योढ़ी हुई पगार ,
बढ़त हमारी खा गया बढ़ता हुआ बज़ार |

क्या प्रपंच रचने लगे तुम साथी शालीन,
खुलीं मछलियाँ छोड़ दीं बगुलों के आधीन |

महक पूछती फिर रही उन फूलों का हाल ,
कहीं अनछुए झर गए उलझ कँटीली डाल.

गढ़े खिलौंने चाक पर माटी गूँद कुम्हार,
हम माटी से पूछते किसने गढ़ा कुम्हार

चलो सुबह की धूप में खुल कर करें नहान,
धुले जलज सी खिल उठे फिर अपनी पहचान

सुनो धरा की धड़कनें ऋतुओं के संवाद ,
चन्दन धोये पवन से करो न वादविवाद

बैजनियाँ बादल घिरे बूँदें झरी फुहार,
धूप नहाने में लगी सारी तपन उतार

आमंत्रण था आपका हम हो गए निहाल ,

जब तक पहुँचे भोज में उखड़ गए पंडाल.

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter