31 July 2014

दो कवितायें - सञ्जीव निगम

जब मौन को शब्द मिले .....



हमने  कुछ शब्द कहे - आपस में,
और फिर देर तक सन्नाटा पसरा रहा 
हमारे बीच में,
हम  मौन हो तकते रहे,
सामने बैठे हुए - फिर अचानक ,
धीरे से रखा उसने अपना हाथ मेरे हाथ पर,
और सारा मौन मुखरित हो उठा.

और जब शब्दों से बना  मौन ...
कॉफ़ी हाउस के कोलाहल के बीच,
हम कर रहे थे बातें ,इसकी , उसकी ,
चीन की, जापान की,
सारे दुनिया जहान की ,
पर न उसने छुआ मेरा प्याला,
न मैंने हाथ लगाया उसके सैंडविच में,
इतने शोर शराबे में सिर्फ हमीं जानते थे कि 
घूँट घूँट कॉफ़ी के साथ, उतर रहा था सन्नाटा,
हमारे बीच में




सम्वेदनाएँ अभी मरी नहीं हैं

हर दिन जब हम एक दूसरे के पास से
चुपचाप गुज़रते हैं,
परिचय अपरिचय का धूपछाँही आभास लिए,
मेरे मन के छोटे से गमले में \
कितने ही सवालों की कोंपलें फूट पड़ती हैं.
कहीं ऐसे ही कुछ सवाल 
तुम्हारे मन में भी तो नहीं?

हर दिन जब हम एक दूसरे की ओर 
चले आ रहे होते हैं,
मुझे महसूस होता है कि 

मैं अच्छा और अच्छा ,
सुन्दर और सुन्दर होता जा रहा हूँ,

इस विश्वास के साथ कि 
मुझमे ऐसा बहुत कुछ है 
जो मुझे तुमसे जोड़ सकता है.
कहीं इसी जुड़ाव का विश्वास 
तुम्हारी कल्पनाओं में भी तो नहीं?


हर दिन जब घड़ी की सुस्त रफ़्तार सुईयाँ
बड़ी देर बाद ,
तुम्हारे आने के सुखद क्षण संजोने लगती हैं,
मेरे शरीर के भीतर एक सुनहली कंपकंपी 
रेशमी जाल  बुनने लगती है.
आँखों के आगे उगने लगता है तुम्हारा रूप,
अच्छा, और अच्छा,
सुन्दर ,और सुन्दर,
पवित्र ,और पवित्र बनकर.


कहीं ऐसे ही किसी मधुर आभास की 
चमक तुम्हारी आँखों में भी तो नहीं?


हाँ , यदि सचमुच ऐसा है तो
यह मानना पड़ेगा कि 
हमारी संवेदनाएं

अभी जिंदा हैं.


हमारी कल्पनाओं में
अभी चटख रंग बाकी हैं.
हमारे जिस्मों में
जीवन की मीठी गर्मी की तपन 
अभी शेष है.

और, अविश्वास,अजनबीपन व अनैतिकता से भरे 
इस बर्बर जंगल में रहते हुए भी ,


हम अभी तक मनुष्य हैं.

 सञ्जीव निगम

9821285194

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।