31 July 2014

देहरी क्यों लाँघता है आज गदराया बदन - ब्रजेश पाठक मौन

देहरी क्यों लाँघता है आज गदराया बदन
क्या मनमीत का संदेश ले आया पवन

या किसी शहनाई के स्वर ने कोई जादू किया
या दिखाई दे गया है स्वप्न में मन का पिया
कंचुकी के बन्ध ढीले हो रहे क्यों बार-बार
क्यों लजाये जा रहे हैं आज कजराये नयन

और ही है रंग कुछ गालों पे तेरे मनचली
फूल जैसी खिल रही कचनार की कोमल कली
बाग ने सींचा कि भँवरों का बुलावा आ गया
जो हथेली से छिपाया जा रहा पूरा गगन

मौन अधरों में दबी है बात किस के प्यार की
दे रही बिंदिया, उलहना आज क्यों, शृंगार की
गरम साँसें उठ रही हैं मन ये बेक़ाबू हुआ

जैसे शादी के किसी मण्डप में होता है हवन 

:- ब्रजेश पाठक मौन

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।