30 April 2014

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला को स्वर्ण -सम्मान

खगड़िया ( 8 - 9 मार्च 2014 )  सुपरिचित साहित्यकार और कुण्डलियाकार श्री त्रिलोक सिंह ठकुरेला  को उनके कुण्डलिया  संग्रह 'काव्यगन्धा ' के  लिए    हिन्दी भाषा साहित्य परिषद ,खगड़िया (बिहार ) द्वारा स्वर्ण सम्मान  से सम्मानित किया  गया है।    हिन्दी भाषा साहित्य परिषद  का  दो  दिवसीय 13 वां  महाधिवेशन ( फणीश्वर नाथ   रेणु  स्मृति पर्व )  का शुभारम्भ  खगड़िया के  कृष्णानगर  स्थित परिषद कार्यालय परिसर में झंडोतोलन और  दीप जलाकर हुआ।  मुख्य अतिथि श्यामल जी , अंग -माधुरी के  सम्पादक  डाँ.  नरेश पांडे चकोर ,डॉ सिद्धेश्वर काश्यप ने  दीप  जलाकर उदघाटन सत्र  का  आगाज किया। स्वागताध्यक्ष कविता परवाना ने  स्वागत भाषण पढ़ा। इस अवसर पर  कौशिकी (त्रैमासिकी )  के  रेणु  अंक का  विमोचन   डाँ.  नरेश पांडे चकोर ने  किया। द्वितीय सत्र में  कवि  सम्मलेन  का आयोजन किया गया ,जिसमे कई कवियों और  गजलकारों  ने  अपनी प्रस्तुतियों  से  श्रोताओं का  मन  मोहा। 

9   मार्च  को तृतीय सत्र में  एकांकी प्रदर्शन  और  काव्यपाठ किया गया। चतुर्थ सत्र में सम्मान समारोह के  मध्य श्री त्रिलोक  सिंह ठकुरेला को  डॉ.रामवली परवाना  स्वर्ण स्मृति सम्मान तथा सर्वश्री चन्द्रिका ठाकुर  देशदीप , कृपा शंकर शर्मा 'अचूक ' , अवधेश  कुमार  मिश्र ,अमित  कुमार लाडी , डॉ.  जी. पी. शर्मा , हातिम  जावेद ,अवधेश्वर  प्रसाद  सिंह , संजीव  सौरभ  हीरा प्रसाद हरेन्द्र , रमण सीही , डॉ. राजेन्द्र प्रसाद , रामदेव पंडित राजा , कविता परवाना , कैलाश झा किंकर को  रजत स्मृति सम्मान  से  सम्मानित किया गया। अंत में  परिषद सचिव  श्री नन्देश निर्मल ने  सभी का धन्यवाद ज्ञापन किया। 

नन्देश निर्मल 
सचिव     
हिन्दी भाषा साहित्य परिषद ,खगड़िया (बिहार )

त्रिलोक सिंह ठकुरेला - सम्पर्क - 09460714267 

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।