30 April 2014

हाइकु - सुशीला श्योराण



जेठ की गर्मी
गौरैया तके मेह
रेत नहाये


:- सुशीला श्योराण

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु है। सुशीला जी को बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  2. नवीन जी आपका हार्दिक आभार।
    आपको हाइकु पसंद आया आपका भी ह्रदय से आभार सज्जन धर्मेन्द्र जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत कुछ समोया है इस हाइकू मे -- आशा ,पीड़ा, संताप , समझौता – ज़िन्दगी की एक मुकम्मल तस्वीर है इसमे !! बहुत खूब !!

    ReplyDelete

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter