30 April 2014

हाइकु - सुशीला श्योराण



जेठ की गर्मी
गौरैया तके मेह
रेत नहाये


:- सुशीला श्योराण

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु है। सुशीला जी को बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  2. नवीन जी आपका हार्दिक आभार।
    आपको हाइकु पसंद आया आपका भी ह्रदय से आभार सज्जन धर्मेन्द्र जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत कुछ समोया है इस हाइकू मे -- आशा ,पीड़ा, संताप , समझौता – ज़िन्दगी की एक मुकम्मल तस्वीर है इसमे !! बहुत खूब !!

    ReplyDelete