30 April 2014

तज दे ज़मीन, पंख हटा, बादबान छोड़ - तुफ़ैल चतुर्वेदी

तज दे ज़मीन, पङ्ख हटा, बादबान छोड़
गर तू बग़ावती है, ज़मीं-आसमान छोड़

ये क्या कि पाँव-पाँव सफ़र मोतियों के सम्त
हिम्मत के साथ बिफरे समन्दर में जान छोड़

ख़ुशबू के सिलसिले दे या आहट की राह बख़्श
तू चाहता है तुझसे मिलें, तो निशान छोड़

बुझते ही प्यास तुझको भुला देंगे अहले-दश्त
थोड़ी-सी तश्नगी का सफ़र दरमियान छोड़
अहले-दश्त – जङ्गल के लोग

मैं चाहता हूँ अपना सफ़र अपनी खोज-बीन
इस बार मेरे सर पे खुला आसमान छोड़

क्यों रोकता है मुझको इशारों से बार-बार
सच सुनना चाहता है तो मेरी ज़बान छोड़

मुझको पता चले तो यहाँ कौन है मेरा
आ सामने तो मेरी तरफ, खुल के बान छोड़

:- तुफ़ैल चतुर्वेदी


बहरे मज़ारिअ मुसमन अख़रब मकफूफ़ मकफूफ़ महज़ूफ़
मफ़ऊलु फ़ाइलातु  मुफ़ाईलु फ़ाइलुन

 221 2121 1221 212

2 comments:

  1. aapne aap me lajabab gazal hai .......kamaal......lagbhag 10 saal pahle ek misra v.bhaisab se suna tha ....langar samet naavo badha badvaan khool....mahoul me ghutan hai bahout aasman khool...............wah wah wah

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल कही है तुफ़ैल जी ने। उन्हें बारंबार बधाई।

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।