10 October 2010

तू जो कहे

तू जो कहे, तेरी दुनिया से तुझको चुरा ले आऊँ मैं।
तेरी इजाजत हो, तो मुहब्बत की बगिया महकाऊँ मैं।१।

मान सके तो मान ले कहना, दिल मैं है ख्वाहिश एक यही।
तुझको बना लूं अपना दिलबर, और तेरा हो जाऊँ मैं।२।


तेरा भरोसा, तेरा सहारा, प्यार जो तेरा मिल जाये।
सबसे बड़ा किस्मत वाला, इस दुनिया में बन जाऊँ मैं।३।

तेरी ही बातें - तेरी ही यादें, इसके सिवा कुछ काम नहीं।
तुझसे जो वक़्त मिले तब यारा, दुनिया से बतियाऊँ मैं।४।

नजर मिला के, शर्म मिटा के, जो दिल में है - कह दे तू।
ऐसा न हो, कहीं दिल की ये ख्वाहिश, दिल में रखे मर जाऊँ मैं।५।

No comments:

Post a Comment