6 August 2016

सपनों को पलने दीजे - नवीन

सपनों को पलने दीजे
लमहों को लमहे दीजे
अँसुअन के धारे दीजे
अँखियों को हँसने दीजे
सुन कर भी सुनते ही नहीं
आप तो बस रहने दीजे
दिल पिंजड़े में रह लेगा
दाना-पानी दे दीजे
ख़ुशियाँ आप के पास न थीं
ग़म तो अच्छे से दीजे
कातिल पर है ख़ून सवार
दिल को फव्वारे दीजे
पलकें पसरी जाती हैं
भवों को सुस्ताने दीजे
लौट आयेंगे जल्दी ही
ज़रा सा उड़ लेने दीजे
नयी कोंपलों की ख़ातिर
हवाओं को पत्ते दीजे
गुम हो जायेंगे गिर कर
तारों को टिकने दीजे
फ़न को पाँव नहीं दरकार
हम को हरकारे दीजे
दीवारें भी महकेंगी
महकारें ला के दीजे
बेकल है मन का जोगी
दरिया को बहने दीजे
बचपन माँग रहा है ‘नवीन’
अँगने-गहवारे दीजे

नवीन सी चतुर्वेदी

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter