30 November 2014

छन्द - राजेश कुमारी

उल्लाला छन्द – राजेश कुमारी


सरस्वती वंदना


हे माँ श्वेता शारदे, विद्या का उपहार दे
श्रद्धानत हूँ प्यार दे, मति नभ को विस्तार दे

तू विद्या की खान है ,जीवन का अभिमान है
भाषा का सम्मान है ,ज्योतिर्मय वरदान है
नव शब्दों को रूप दे ,सदा ज्ञान की धूप दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे

कमलं पुष्प विराजती ,धवलं वस्त्रं  शोभती
वीणा कर में साजती ,धुन आलौकिक बाजती
विद्या कलष अनूप दे,आखर-आखर कूप दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे

निष्ठा तू विश्वास तू ,हम भक्तों की आस तू
सद्चित्त का आभास तू ,करती तम का ह्रास तू
तम सागर से तार दे ,प्रज्ञा का आधार दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे

वाणी में तू रस भरे ,गीतों  को समरस करे
जीवन को  रोशन करे,तुझसे ही माँ तम डरे
रस छंदों का हार दे ,कविता ग़ज़ल हजार दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे


जिस को तेरा ध्यान है, मन में तेरा मान है
तेरे तप का  भान है ,मानव वो विद्वान है
जीवन में मत हार दे ,भावों में उपकार दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे

धवल हंस सद्वाहिनी, निर्मल सद्मतिदायिनी
जड़मति विपदा हारिणी, भव सागर तर तारिणी                                                                    सब कष्टों से तार दे,शिक्षा का भण्डार दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे

हे माँ श्वेता शारदे, श्रद्धानत हूँ प्यार दे

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।